Tagged: Hurt

0

Intzaar (Waiting but Still Alone)

Intzaar सवालो मे उलझी रहीं यू आँखें मेरी, पलकों को उठा के ज़रा देखा भी नहीं| बेवजह रह गया इंतज़ार मेरा उसके लिए, जब गुजरा वो सामने से तो हमे खबर ही नहीं| पास...

2

Ki Tarah – A Lovable Poem

Ki Tarah – A Lovable Poem पढ़ लो मुझको ज़रा शायरी की तरह, मैं याद हर वक़्त आउंगी तुम्हे मौसकी की तरह, मत पलटो मुझे किताबों के पन्नो की तरह, तेरे अंदर बसती हूँ...

0

Feeling of Love and Understanding is Samjhahish

Samjhahish मोहोब्बत सिर्फ तन्हाइयों का नाम है, समझ जाओगे तो जीना आसान हो जाएगी! बिखर कर सिमटना ही ज़िन्दगी है, बिखर के रह गए तो सैलाब आ जायेगा! जरुरी नहीं की तमानना हर पूरी...

0

Uljhan

उलझने ज़िन्दगी की यु उलझ सी गयी, खड़े रहे हम राहो मे और कश्तियाँ डूबती रही!   फर्क और फासला हमने बहोत करीब से देखा लहरो और समुन्दर के बीच, कश्तियाँ टकरा कर किनारो...