Tagged: art of life

0

Story of Life 2

Story of Life 2 हंसकर बता मुझे ज़िन्दगी, रोती है क्यों तू छुपकर ज़िन्दगी, नहीं समझता तुझे कोई तो क्या, थामती है तू सबका हाथ ज़िन्दगी| भला – बुरा कहना है दस्तूर दुनिया का...