Sawalon Ki Duniya – A Heart Touching Poem

0
1,266 views
@GoogleImages

Sawalon Ki Duniya

कदमो की आहटों मैं सवालों की आंधियां हैँ,
हर नज़र के साथ बैढीं, अनगिनत सी जालियां हैँ |

मेरी जुबां के लफ्ज़ कुछ फुसफुसाना चाहते हैँ,
लम्हों की आवाज़ें अब कानों की बालियां हैँ |

न लहर के साथ कश्ती, न किनारा साथ है,
पार कैसे होगा ये पल, जब यादों मैं बंधी परछाइयां हैँ |

ये सितारे आज फिर चाँद को तन्हां छोड़ आये,
यूँ लगा गुस्ताख़ आसमां की सारी गलतियां हैँ |

साख से गिरता हुआ पत्ता भी जब गुनगुनाने लगे,
समझो अब बगावत की सारी तैयारियां हैँ |

लौ दिए की भी किसी और ही दिशा मैं हैँ,
ये तूफ़ां के आने की सब सुर्खियां हैँ |

Leave a Reply