Life of Love

0
580 views
@GoogleImages

Life of Love

था बस कसूर ये तुझसे मोहोब्बत करने लगे,
अपने गम को भुलाकर तेरी ख़ुशी मे हँसने लगे|

करने लगे इरादा तुझसे बफाओं का,
जीने लगे तेरे लिए और तेरे लिए मरने लगे|

तरंग संग सरगम को उतारा साज मे,
तेरे लिए लगे सजने और संवरने लगे|

बेइरादा सिलसिले मे भटकते रहे हम,
करीब लाके वो खुद से दूर करने लगे|

रसमे हमने भी निभाई बड़े गुरूर से,
वो चल दिए छोड़ कर और हम उनके निशान मिटाने लगे|

बस यही था किस्सा मेरी ज़िंदगानी का,
शब्दो को बांधकर ये एक कहानी सुनाने लगे|

Leave a Reply