Poem For Growing India By Darshana Bhawsar

0
1,351 views
@GoogleImages

पैसो को जिन लोगो ने भगवान बना डाला
मोदी ने उन पैसे वालो का दाम लगा डाला,
देश की जनता का एक नया आवाम बना डाला,
संग मैं लेके युवा को एक संगठन नाम बना डाला!

बदल रही हैं तस्वीरें अब देखो कैसे हिंदुस्तान की,
चंद दिमागी दाब पेंच से जिन्होंने पकिस्तान डरा डाला,
एक प्रतिबिम्ब दिखा दूर से, हर बच्चे -बच्चे को,
देखो कैसे चाय वाले ने भारत देश का स्वाद बदल डाला!

कोई युवा- बच्चा- बूढ़ा भूखा नहीं राजनीती का,
उनको मतलब-उन ब्याक्तित्ब से जिन्होंने, उनका आत्मसम्मान बड़ा डाला,
समझो शक्ति संगठन की, बस यही काम आएगी,
कल पता पड़े तुम्हारा(राजनीतिग्यो) भी किसी ने काम लगा डाला!

ज़रा सोच के देखो सही-गलत की परछाई को,
कैसे कण -कण जुटा के मोदी ने एक संग्राम बना डाला,
अब विचलन को दूर ही रखना, फूट के अंगारों से,
कुछ तो बात है उसमे जिसने-देश की जनता को पानी की धार बना डाला!

Leave a Reply