Author: Darshana Bhawsar

You Hurt Me 0

You Hurt Me

क्यों आये पास, जब दूर जाना ही था, हंसाया क्यों, जब रुलाना ही था| क्यों किया प्यार, जब प्यार तोड़ जाना ही था, क्यों चुराया दर्द, जब दर्द देकर जाना ही था| क्यों मेरी...

Hurting in Love 0

Hurting in Love

कैसे भुला पाऊँगी तुमको मुझे बता जाओ, चले जाना बस मेरी गलती बता जाओ| हरसत मेरी ज्यादा थी तुमसे जानती हूँ मैं, मेरी खोयी हुई चाहत को पाने की दिशा बता जाओ| मोहोब्बत थी...