LATEST ARTICLES

Parwarish

ऐ परवरिश ऐसे भी न बांध मुझे अपने संस्कारों से, कि सही और गलत का फैसला मुश्किल हो जाये.....

I Miss You

Chahat

मेरी चाहत की दुनिया बहुत अजीब थी, पास होकर भी तू मुझसे दूर थी, बचपन में जैसे तरसे थे चाँद को पाने के लिए हम, वैसे ही तुझे पाने की हसरत मेरे...

Heart Breaking Sound of Love

न कही सुकून था, न कोई जूनून था, ज़िंदगी ने ऐसी राहों पे ला खड़ा किया, संग न था कोई अब, तन्हा सी थी हर डगर भी अब, पास ला कर ज़िंदगी...

Old Book

ज़रा सोच कर पढ़िए किसी पुरानी पड़ी किताब को, क्योकि... पुरानी किताब के जिस दिन पन्ने खुलते हैं, अक्सर वो इतिहास बयां कर जाते हैं... कभी रुला जाते हैं कभी हंसा जाते हैं, कभी...